New Delhi: सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के साथ LIC में FDI की सीमा तय करेगी सरकार

 | 
New Delhi: सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के साथ LIC में FDI की सीमा तय करेगी सरकार
New Delhi: सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के साथ LIC में FDI की सीमा तय करेगी सरकार
Life Insurance Corporation

New Delhi: भारतीय जीवन बीमा निगम को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है. सरकार एलआईसी में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) की सीमा तय करेगी। सरकार एलआईसी में विदेशी निवेश [foreign investment] पर 20 फीसदी की सीमा तय कर सकती है। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों [ public sector banks] में विदेशी निवेश की सीमा समान है।

बीमा क्षेत्र में 74 प्रतिशत विदेशी निवेश की अनुमति
मौजूदा एफडीआई नीति के तहत बीमा क्षेत्र में 74 फीसदी विदेशी निवेश की अनुमति है। लेकिन ये नियम भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) पर लागू नहीं होते हैं। एलआईसी का एक अलग एलआईसी अधिनियम है। एलआईसी एक्ट के तहत सरकार के अलावा कोई भी कंपनी में 5 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी नहीं रख सकता है। अगर इन सीमाओं में कोई बदलाव किया जाता है, तो एलआईसी अधिनियम को बदलना होगा।

भारत में सबसे बड़ा आईपीओ
देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी इस साल के अंत में अपना आईपीओ ला सकती है। माना जा रहा है कि एलआईसी का आईपीओ देश का सबसे बड़ा आईपीओ होगा। इसके एक लाख करोड़ रुपये तक जाने का अनुमान है। केंद्र सरकार ने एलआईसी के आईपीओ के प्रबंधन के लिए 10 वाणिज्यिक बैंकों का चयन किया है। चुने गए 10 बैंकों में गोल्डमैन सैक्स, सिटीग्रुप, कोटक महिंद्रा और एसबीआई कैप्स (गोल्डमैन सैक्स, सिटीग्रुप, कोटक महिंद्रा और एसबीआई कैप्स) शामिल हैं। इनमें जेएम फाइनेंशियल लिमिटेड, एक्सिस कैपिटल, नोमुरा, बोफा सिक्योरिटीज, जेपी मॉर्गन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज शामिल हैं।

पॉलिसी खरीदने वालों को अधिक लाभ
सरकार पॉलिसी खरीदारों को लाभ पहुंचाने के लिए एक नई योजना लेकर आई है। एलआईसी अपने आईपीओ में ग्राहकों के लिए अलग कोटा तय कर सकती है। निर्गम आकार का 10 प्रतिशत पॉलिसीधारकों के लिए आरक्षित किया जा सकता है। एलआईसी का आईपीओ चालू वित्त वर्ष 2021-22 के अंत में यानी 31 मार्च 2021 तक आ सकता है। इसके अलावा, डेलॉइट और एसबीआई कैप्स को आईपीओ से पहले लेनदेन सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया है।

आईपीओ के बाद किसके पास बीमा कारोबार होगा?
एलआईसी की लिस्टिंग के बाद बीमा कारोबार का 60 फीसदी हिस्सा लिस्टेड कंपनियों के पास जाएगा। यह क्षेत्र समग्र अर्थव्यवस्था की तुलना में तेजी से बढ़ रहा है। आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीए) ने जुलाई में एलआईसी की सूची को सैद्धांतिक रूप से मंजूरी दी थी।

यह भी पढ़ें- आपने भी अगर ली है LIC की पॉलिसी, तो हो जाएं सावधान, वरना होगा ये बड़ा नुकसान

यह भी पढ़ें- LIC स्पेशल पॉलिसी: रोजाना जमा करें 25 रुपये और पाएं 2 लाख, 5 साल से भी कम है प्रीमियम

यह भी पढ़ें- जानिए क्या है बीमा पॉलिसी की असली हकीकत‚ और कितने तरह का होता है Insurance