नोएडा: महिला सिपाही के प्यार में पति ने पत्नी और 2 बच्चों को मारकर घर में दबाया, 3 साल बाद ऐसे खुला राज..

 | 
नोएडा: महिला सिपाही के प्यार में पति ने पत्नी और 2 बच्चों को मारकर घर में दबाया, 3 साल बाद ऐसे खुला राज..

Author: कपिल कुमार

नोएडा: महिला सिपाही के प्यार में पति ने पत्नी और 2 बच्चों को मारकर घर में दबाया, 3 साल बाद ऐसे खुला राज..
पुलिस हिरासत में आरोपी व बेसमेंट की होती खुदाई सौजन्य: सोशल मीडिया

नोएडा: वेस्ट ग्रेटर नोएडा के चिपियान गांव के व्यक्ति ने अपनी पत्नी और दो बच्चों की हत्या कर उनके शव बेसमेंट में दफना दिए। इतना ही नही युवक ने अपने दोस्त की हत्या कर अपने ससुर को फंसाने के लिए खुद का शव बताने की साजिश रची। इस साजिश में उसके रिटायर पुलिसकर्मी पिता ने भी साथ दिया। पुलिस ने बुधवार को सोनीपत से आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

जानकारी के अनुसार राकेश पुत्र बनवारी (रिटायर्ड पुलिसकर्मी) निवासी नौगंवा थाना गंगीरी अलीगढ़ का निवासी है। राकेश के पिता का ग्रेटर नोएडा वेस्ट के चिपयाना गांव में एक और मकान है। वर्ष 2018 में राकेश अपनी पत्नी बच्चों के साथ नोएडा जाकर रहने लगा। इसी दौरान राकेश के रूबी नाम की सिपाही से प्रेम संबंध हो गए। राकेश और रूबी के संबंध इतने गहरे जो गए कि सिपाही रूबी ने राकेश से कहा कि अगर वह अपनी पत्नी और बच्चो को रास्ते से हटा दे वो उससे शादी कर लेगी।

रूबी के प्यार में पागल राकेश ने अपनी पत्नी और दो बच्चों की हत्या कर उनके शवों को घर मे बने बेसमेंट में दफना दिए। हत्याकांड को अंजाम देने के बाद राकेश ने अपने ससुराल एटा स्थित मारहरा आकर ससुर मोतीलाल को बताया कि उनकी बेटी, दोनों बच्चों के साथ लापता है। ससुर से ही बेटी की गुमशुदगी लिखाई। लेकिन मोतीलाल को राकेश पर शक करता रहा। इस पर कोर्ट के आदेश पर बिसरख थाने में दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया। मुकदमा दर्ज होने पर गिरफ्तारी से बचने के लिए राकेश ने एक भयानक साजिश रच डाली।

राकेश ने अलीगढ़ के नॉगवा गंगीरी निवासी अपने दोस्त कल्लू को पत्नी को तलाश के लिए ढोलना क्षेत्र में जाने को कहकर साथ ले आया। 25 अप्रैल वर्ष 2018 को राकेश ने अपने दोस्त कल्लू का सिर काटकर हत्या कर दी थी और उसके शव को अपने कपड़े पहनाकर अधजली हालात में कासगंज क्षेत्र के मारूपुर रेलवे पुल के पास फेंक दिया। उसने कल्लू के शव के कपड़ों पर अपना प्राइवेट नौकरी का आईकार्ड डालकर वहां से फरार हो गया। काफी ढूंढने पर भी शव का सिर नहीं मिला था।

राकेश के पिता बनवारी व भाई राजीव ने उस शव की शिनाख्त राकेश के रूप में करते हुए ससुरालीजनों पर राकेश को गायब कर हत्या कराने का मुकदमा दर्ज करा दिया। राकेश की हत्या का मुकदमा दर्ज होने पर मोतीलाल ने उच्चाधिकारियों के संज्ञान में मामला डाला।
वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर कल्लू के बिसरा व राकेश और कल्लू के परिजनों का डीएनए टेस्ट कराया। इसकी रिपोर्ट अगस्त की शुरुआत में आई तो डीएनए का राकेश के परिजनों से मिलान नहीं हुआ।

जिसके बाद पुलिस को राकेश के पिता बनवारी को शक के आधार पर पूछताछ के लिए उठा लिया। पूछताछ में पिता ने सब हकीकत बता दी। इसी दौरान पुलिस के कब्जे में बनवारी के मोबाइल पर अचानक रात को राकेश की फोन कॉल आ गई। जिसे पुलिस ने सर्विलांस टीम के जरिए तलाश कर हरियाणा के सोनीपत से हिरासत में ले लिया। पूछताछ में उसने ढोलना पुलिस के सामने सब कुछ कबूल लिया। ढोलना पुलिस राकेश को लेकर नोएडा गई और शवों की तलाश में घर से खुदवाया।

कासगंज पुलिस बुधवार की देर रात हत्याकांड के आरोपी राकेश को लेकर ग्रेटर नोएडा वेस्ट के चिपयाना गांव पहुंची। बिसरख कोतवाली पुलिस की मदद से बेसमेंट की खुदाई करवाई जा रही है। पुलिस ने बेसमेंट से हड्डियां बरामद की हैं। पुलिस आरोपी को वापस कासगंज ले गई है। कासगंज एसपी रोहन प्रमोद बोत्रे का कहना है कि पुलिस पूरे मामले के खुलासे में जुटी है और बहुत जल्द घटना का खुलासा किया जाएगा।