730 किमी. दौड़कर 17 दिन में प्रयागराज से इंडिया गेट पहुंची 8 साल की"उड़नपरी"

 | 
730 किमी. दौड़कर 17 दिन में प्रयागराज से इंडिया गेट पहुंची 8 साल की"उड़नपरी"

Author अशोक धवन

730 किमी. दौड़कर 17 दिन में प्रयागराज से इंडिया गेट पहुंची 8 साल की"उड़नपरी"

प्रयागराज की आठ साल की नन्हीं काजल ने प्रयागराज से दौड़ लगाकर दिल्ली इंडिया गेट पर झंडा फहराने का प्रण लिया। आखिर रविवार को उनने वो कीर्तिमान हासिल किया, जिसका उसने संकल्प लिया था। महज प्रयागराज से दिल्ली तक का 730 किमी तक का सफर उसने दौड़कर 17 दिनों के भीतर तय किया। जिसके बाद नन्हीं काजल ने अपने पिता व गुरु के साथ रविवार को इंडिया गेट पर तिरंगा फहराया।

नन्ही काजल ने ओलंपिक खिलाड़ियों के उत्साहवर्धन के लिए यह दौड़ लगाई। आठ अगस्त को दिल्ली इंडियागेट पर तिरंगा फहराने का लक्ष्य लेकर छोटी काजल 23 जुलाई को दिल्ली जाने को प्रयागराज से निकली थी। पहले ही दिन उसने खागा तक का सफर तय किया। उसके साथ रेलवे में काम करने वाले पिता नीरज मालवीय और गुरु रजनीकांत दोनो बाइक से चल रहे थे। फतेहपुर, कानपुर, आगरा और मथुरा के रास्ते वो दिल्ली पहुंची

इंडिया गेट पहुंचने पर दिल्ली वासियों ने भी काजल का दिल खोलकर स्वागत किया। मीडिया से हुई बातचीत में काजल ने बताया कि ओलंपिक में भारत के गोल्ड जितने पर दौड़ की खुशी दोगुनी हो गई। काजल की इच्छा है कि भारत इस प्रतिस्पर्धा में खूब बढ़े। काजल के पिता बेटी की उपलब्धि से फूले नहीं समा रहे हैं।उन्होंने कहा कि यह प्रयागराज के लिए गोल्ड जीतने से कम नहीं है।