राजस्थानः बंदूक की नोक पर नाबालिग छात्रा से गैंगरेप

 | 
राजस्थानः बंदूक की नोक पर नाबालिग छात्रा से गैंगरेप

राजस्थान(Rajasthan) के बाड़मेर जिले(Barmer District) में एक नाबालिग छात्रा(minor student) के साथ सामूहिक दुष्कर्म(gang rape) का मामला सामने आया है. पीड़ित परिवार की शिकायत पर पुलिस ने तत्काल इस मामले में प्राथमिकी दर्ज(FIR) कर ली है. इसके बाद पुलिस ने छात्रा के एक सहपाठी(ClassMate) को हिरासत में लिया है. उससे घटना व अन्य आरोपियों के बारे में पूछताछ की जा रही है।

जानकारी के मुताबिक घटना 16 जनवरी की है. मामला शिव थाना क्षेत्र के गांव का है. आरोप है कि इससे पहले वहां एक नाबालिग छात्रा को बंदूक की नोक पर अगवा किया गया था. इसके बाद तीन युवकों ने सुनसान जगह पर ले जाकर सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। गैंगरेप के बाद आरोपी पीड़िता को डरा धमकाकर गांव में छोड़ गया।

दो दिन बाद जब पीड़िता ने परिवार वालों को आपबीती सुनाई तो उनके होश उड़ गए. पीड़ित लड़की के साथ परिवार के लोग 20 जनवरी को शिव थाने पहुंचे और घटना की रिपोर्ट दर्ज कराई. पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तत्काल मामला दर्ज कर लिया।

जानकारी के मुताबिक पीड़ित छात्रा 10वीं कक्षा में पढ़ती है. अपहरण करने वाली नाबालिग छात्र भी उसी स्कूल में पढ़ते है। दोनों दसवीं के छात्र हैं।

पुलिस अधीक्षक दीपक भार्गव के मुताबिक सामूहिक दुष्कर्म की घटना सामने आई है. पुलिस मामला दर्ज कर कार्रवाई कर रही है। छात्रा के एक नाबालिग सहपाठी को हिरासत में लिया गया है. जिससे पुलिस सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बारे में पूछताछ कर रही है. अन्य आरोपियों की तलाश के लिए कई टीमें भी बनाई गई हैं। मामले की जांच डीएसपी पुष्पेंद्र सिंह अदा कर रहे हैं।

अलवर मामले में घिरी सरकार

आपको बता दें कि 11 जनवरी को एक विकलांग बच्ची के साथ क्रूरता की घटना सामने आई थी. उस दिन लोगों ने आखिरी बार उस लड़की को करीब 12 बजे देखा था। तब वह खेत के रास्ते सड़क पर जा रही थी। लेकिन उसके बाद वह ओवर ब्रिज के नीचे खून से लथपथ हालत में मिली। पहले उन्हें अलवर के स्थानीय अस्पताल ले जाया गया। वहां से उसे गंभीर हालत में जयपुर रेफर कर दिया गया। जहां 8 घंटे तक चले लंबे ऑपरेशन के बाद उसकी जान बचा ली गई। इस मामले को लेकर विपक्षी दलों ने सरकार पर हमला बोला, जब पुलिस ने कहा कि इस मामले में रेप नहीं हुआ है.