Kanpur: बुजुर्ग मां-बाप को घर से निकालना बेेटे-बहू को पड़ा भारी‚ कमिश्नर ने भेजा दोनाें को जेल

 | 
Kanpur: बुजुर्ग मां-बाप को घर से निकालना बेेटे-बहू को पड़ा भारी‚ कमिश्नर ने भेजा दोनाें को जेल
Kanpur: बुजुर्ग मां-बाप को घर से निकालना बेेटे-बहू को पड़ा भारी‚ कमिश्नर ने भेजा दोनाें को जेल

Kanpur news: उत्तर प्रदेश के कानपुर में बुजुर्ग मां-बाप को घर से निकालना बेटे- बहू को भारी पड़ा। बुजुर्ग दंपत्ति की पीड़ा सुनकर खुद पुलिस कमिश्नर असीम अरुण की आंखों में आंसू आ गए। कमिश्नर खुद पूरे पुलिस अमले के साथ बुजुर्ग दंपत्ति को लेकर बेटे के घर जा पहुंचे। यहां कार्रवाई करते हुए पुलिस कमिश्नर ने बेटे और बहू को जेल भिजवा दिया।

दरअसल पुलिस कमिश्नर असीम अरुण के पास जेके कॉलोनी निवासी बुजुर्ग अनिल कुमार शर्मा और उनकी पत्नी फरियाद लेकर पहुंचे थे। बुजुर्ग दंपत्ति ने पुलिस कमिश्नर को बताया कि उनके बेटे अभिषेक और बहू ने मारपीट करके दोनों को घर से बाहर निकाल दिया है। साथ ही उनके कमरे में ताला लगा दिया है। बुजुर्ग दंपत्ति ने जब यह व्यथा सुनाई तो खुद पुलिस कमिश्नर की बेहद हैरान रह गए।

बुजुर्ग दंपत्ति ने कमिश्नर को बताया कि वह कई बार बेटे और बहू के खिलाफ पुलिस चौकी में शिकायत कर चुके हैं लेकिन पुलिस ने कोई मदद नहीं की। बुजुर्ग दंपत्ति की पीड़ा सुनने के बाद खुद पुलिस कमिश्नर अरुण असीम अपनी गाड़ी और पुलिस अमले के साथ बेटे बहू के घर पर पहुंच गए। यहां उन्होंने बेटे और बहू को जमकर लताड़ लगाई।

मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस कमिश्नर ने आरोपी बेटे और बहू का शांति भंग में चालान करा कर जेल भिजवा दिया। उन्होने बुजुर्ग दंपत्ति को अपना नंबर देते हुए कहा कि अगर आगे से कोई परेशान करें तो सीधा उन्हें कॉल करें। आप लोगों को किसी से डरने की जरूरत नहीं है। कमिश्नर ने घर पर कुछ पुलिस कॉन्स्टेबल भी बुजुर्ग दंपत्ति की सुरक्षा में तैनात कर दिए हैं।

इस दौरान पुलिस कमिश्नर अरुण असीम ने कहा कि लोगों को समझना चाहिए कि उन्हें भी एक दिन बुढ़ापा आना है। ऐसे में वह अपने बच्चों के क्या उदाहरण पेश करेंगे। जैसा लोग अपने मां-बाप के साथ कर रहे हैं‚ एक दिन बच्चे भी उन्हीं के साथ इसी तरह का व्यवहार करेंगे। तब उन्हें अपनी गलती का एहसास होगा।