UP: रात में पिता के साथ बैठी खाना खा रही 6 साल की मासूम बच्ची को उठा ले गया तेंदुआ‚ सुबह मिला सिर

 | 
UP: रात में पिता के साथ बैठी खाना खा रही 6 साल की मासूम बच्ची को उठा ले गया तेंदुआ‚ सुबह मिला सिर

Bahraich news: उत्तर प्रदेश के बहराइच में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां कतर्नियाघाट वन्यजीव प्रभाग अंतर्गत मोतीपुर रेंज क्षेत्र में पड़ने वाले कलंदरपुर मजरे गांव में आदमखोर तेंदुआ 6 साल की मासूम बच्ची को पिता के पास से उठाकर ले गया। घटना के बाद पूरे गांव में कोहराम मच गया। बेबस पिता रात भर गांव वालों के साथ मिलकर बेटी की खोज करता रहा लेकिन कुछ पता नहीं चला।

UP: रात में पिता के साथ बैठी खाना खा रही 6 साल की मासूम बच्ची को उठा ले गया तेंदुआ‚ सुबह मिला सिर
बच्ची के शव का अवशेष मिलने पर विलाप करता पिता

जैसे ही दिन निकला तो घर से महज 300 मीटर दूर बेटी का सिर पड़ा मिला। बेटी का सिर देखकर पूरे परिवार की चीख निकल गई। यूं अचानक हुए तेंदुए के हमले से पूरे गांव के लोग सहम उठे। घटना के बाद वन विभाग की टीम भी मौके पर पहुंची और तेंदुए को पकड़ने के लिए जंगल में पिंजरे लगाए गए जिसमें देर रात आमद खोर पकड़ा गया।

जानकारी के अनुसार दिल दहला देने वाली ये घटना एक अगस्त की है। कलंदरपुर मजरे गांव निवासी देवतादीन देर शाम अपने बच्चों के साथ घर के आंगन में बैठा हुआ खाना खा रहा था। घर में पर्याप्त रोशनी का प्रबंध नहीं था‚ जिसके चलते अंधेरे में घात लगाए बैठा तेंदुआ दिखाई नहीं दिया। तेंदुए ने अचानक देवतादीन की 6 साल की बेटी अंछिका पर झपट्टा मारा और उसे उठाकर ले गया।

यह भी पढ़ें- Karnal: पड़ोसी के साथ फरार हुई पत्नी‚ दो मासूम बच्चों की हत्या करने के बाद पति ने किया सुसाइ

परिजन तेंदुए के पीछे चिल्लाते हुए दौड़े लेकिन तेंदुआ बिजली की तरह आंखों से ओझल हो गया। घटना के बाद सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण तेंदुए को खोजने के लिए निकले लेकिन आधी रात बीत जाने के बाद भी तेंदुए का कुछ पता नहीं चला। इसके बाद गांव वाले वापस लौट आए। जैसे ही दिन निकला तो देवतादीन की बेटी का सिर घर से महज 300 मीटर की दूरी पर पड़ा मिला। शरीर का बाकी हिस्सा तेंदुआ खा गया।

30 जुलाई को भी किया तेंदुएं ने हमला

ग्रामीणों ने बताया कि 2 दिन पहले भी 30 जुलाई को इसी तेंदुएं ने चंदनपुर गांव निवासी राम मनोहर के 7 वर्षीय बेटे पर उस समय हमला किया था राम मनोहर बाजार से बेटे को गोद में लेकर लौट रहे थे। अचानक जंगल से निकले तेंदुएं ने दोनों पिता-पुत्र पर हमला कर दिया था। इस हमले में बेटा गंभीर रूप से घायल हो गया था जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। ग्रामीणों को कहना है कि अगर उसी दिन वन विभाग कार्रवाई करता तो देवतादीन की बेटी की जान न जाती।

पकड़ा गया तेंदुआ

ग्रामीणों के रोष को देखते हुए वन विभाग ने गांव में दो पिंजरे लगा दिए थे जिसमें बीती रात आदमखोर तेंदुआ पकड़ा गया। तेंदुएं के पकड़े जाने के बाद ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है। वही वन विभाग ने मृतक दोनों बच्चों के परिजनों को शासन की तरफ से 4 -4 लाख रूपए मुआवजा दिलाए जाने की बात कही है।

यह भी पढ़ें- दिल्ली: शमशाम घाट मे 9 वर्षीय बच्ची के साथ गैंगरेप के बाद हत्या,पुजारी सहित 4 गिरफ्तार