UP: बीएचयू में छात्रों के दो गुटों में पथराव-फायरिंग, चौकी इंचार्ज सहित कई छात्र घायल

 | 
UP: बीएचयू में छात्रों के दो गुटों में पथराव-फायरिंग, चौकी इंचार्ज सहित कई छात्र घायल

Author: Kapil kumar

UP: बीएचयू में छात्रों के दो गुटों में पथराव-फायरिंग, चौकी इंचार्ज सहित कई छात्र घायल
पथराव की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस फोटो सौजन्य: सोशल मीडिया

वाराणसी: विश्व प्रसिद्ध काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में गुरुवार/ शुक्रवार रात लगभग 12 बजे राजाराम और बिड़ला हॉस्टल के छात्र आमने-सामने आ गए। देखते ही देखते दोनों हॉस्टलों के छात्रों की तरफ से पत्थरबाजी, पेट्रोल बम चले और हवाई फायरिंग भी हुई। सूचना पाकर कई थानों की पुलिस व पीएसी मौके पर पहुंची। उग्र छात्रों को पुलिस मनाने का में जुटी रही लेकिन वे मानने को तैयार नहीं थे। इस हमले में बीएचयू चौकी इंचार्ज राजकुमार पांडेय को भी हाथ व पैर में चोटें आई हैं।

आपको बता दें कि काशी विश्वविद्यालय में एक सितंबर से अंतिम वर्ष के छात्रों की कक्षाएं शुरू होनी हैं। साथ ही हॉस्टल का भी आवंटन होना है। गुरुवार दोपहर को अंतिम वर्ष के अलावा सभी कक्षाएं चलाने की मांग को लेकर छात्रों ने सिंह द्वार पर धरना दिया था। रात में राजाराम हॉस्टल में छात्र आपस में बातचीत कर रहे थे। इसी बीच, मामूली कहासुनी पहले विवाद और फिर संघर्ष में बदल गई। देर रात तक दोनों ओर के सैकड़ों छात्र आमने-सामने डटे थे। जबरदस्त पथराव में कई छात्रों को चोटें आई हैं।

विश्वविद्यालय परिसर में मारपीट, पथराव की चौथी घटना है। प्रत्येक घटना के बाद विश्वविद्यालय प्रशासन की तरफ से सुरक्षा-व्यवस्था दुरूस्त करने के बड़े-बड़े दावे भी किए जाते हैं लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो पाती है। लिहाजा आए दिन छात्रों के बीच मारपीट की घटनाएं भी नहीं रूक पाती हैं।

इस साल सबसे पहले मार्च में परिसर में विश्वनाथ मंदिर के पास लाल बादुर शास्त्री हॉस्टल और बिड़ला हॉस्टल के छात्रों के बीच मारपीट, पत्थरबाजी हुई थी। इसके बाद जून महीने में मेडिकल छात्रों और बिड़ला हॉस्टल के बीच मारपीट की घटना हुई। 16 अगस्त को भी इकोनामिक्स की छात्रा के साथ छेड़खानी और मारपीट की घटना हुई। अब गुरुवार/ शुक्रवार को भी छात्रों के दो गुट आपस में भिड़े।

डीसीपी काशी जोन अमित कुमार ने बताया कि दो हॉस्टल के बीच छात्रों में मारपीट और पत्थरबाजी हुई है। दोनों पक्ष की ओर से तहरीर मिली है। आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर कार्रवाई की जाएगी। बीएचयू के चीफ प्रॉक्टर प्रो. आनंद चौधरी ने बताया कि फिलहाल मामला नियंत्रण में है।