New Delhi: नीरज चोपड़ा के कोच ने की 1.64 करोड़ रुपये वेतन की मांग‚ नौकरी से निकाले गए

 | 
New Delhi: नीरज चोपड़ा के कोच ने की 1.64 करोड़ रुपये वेतन की मांग‚ नौकरी से निकाले गए

नीरज चोपड़ा: पूर्व विश्व रिकॉर्ड धारक और राष्ट्रीय भाला फेंक कोच उवे होन [Uwe Hohn] का टोक्यो ओलंपिक के साथ अनुबंध समाप्त हो गया है। अब वह अपने देश लौट जाएंगे, क्योंकि अनुबंध को आगे बढ़ाने की कोई संभावना नहीं है। जर्मनी के 59 वर्षीय माननीय को नवंबर 2017 में एक वर्ष के लिए मुख्य कोच नियुक्त किया गया था।

New Delhi: नीरज चोपड़ा के कोच ने की 1.64 करोड़ रुपये वेतन की मांग‚ नौकरी से निकाले गए
कोच उवे होन के साथ नीरज चोपड़ा [लाल T-शर्ट में]

ओलंपिक चैंपियन भाला फेंकने वाले नीरज चोपड़ा, शिवपाल सिंह और अनु रानी को कोचिंग दी जानी थी। मामले से वाकिफ एक सूत्र ने नाम न छापने की शर्त पर न्यूज एजेंसी को बताया, ”वह हान जा रहे हैं। SAI (Sports Authority of India) के अपने अनुबंध का विस्तार करने की संभावना नहीं है।

पता चला है कि उवे होन ने अपने वेतन में 50% की वृद्धि और विमान के लिए प्रथम श्रेणी के टिकट की मांग की थी। इसके अलावा, छुट्टियों के दौरान आवास, भोजन, चिकित्सा सुविधाएं और यात्रा सुविधाएं प्रदान की जानी थीं। जब उन्होंने अक्टूबर 2020 में अनुबंध पर फिर से हस्ताक्षर किए, तो वे चाहते थे कि इसे बढ़ाकर 1 करोड़ 64 लाख रुपये प्रति वर्ष किया जाए।

SAI के सूत्रों ने कहा,

“SAI ने उन्हें 2020 में सूचित किया कि उनकी मांग व्यावहारिक और अस्वीकार्य थी क्योंकि वे खिलाड़ियों को प्रशिक्षण दे रहे थे। उनके प्रदर्शन को देखते हुए 55 लाख रुपये की बढ़ोतरी उचित नहीं थी।’

नीरज चोपड़ा ने सिर्फ एक साल की ट्रेनिंग

साई ने यह भी कहा कि वह 2018 एशियाई खेलों तक अपने कोच के रूप में एक और विदेशी भाला फेंक कोच, बायो-मैकेनिक विशेषज्ञ डॉ के हान चोपड़ा को नियुक्त करने के लिए एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया की सिफारिश पर थे। एक साल तक सेवा की। एएफआई ने स्पष्ट किया कि उवे ऑनर को छोड़कर क्लोज के साथ ट्रेनिंग करना चोपड़ा का फैसला था। चोपड़ा ने यह भी कहा कि वह माननीय का सम्मान करते हैं लेकिन जर्मन कोच की प्रशिक्षण पद्धति और तकनीक को पसंद नहीं करते हैं।

साई और एएफआई की आलोचना की

सूत्रों ने बताया कि अक्टूबर 2020 में हो ने मौजूदा शर्तों पर अपने अनुबंध को बढ़ाने का फैसला किया और वे शिवपाल को प्रशिक्षण दे रहे थे। जो 76.40 मीटर के खराब प्रदर्शन के साथ ओलंपिक के फाइनल में जगह बनाने में नाकाम रही। टोक्यो ओलंपिक में फ्लॉप रहीं महारानी ने भी हान के साथ ट्रेनिंग करने से मना कर दिया था। AFI और SAI ने ओलंपिक से एक महीने पहले राष्ट्रीय शिविर में सुविधाओं की कमी की माननीय आलोचना को भी नापसंद किया।

आपको बता दें कि उवे होन [Uwe Hohn] विश्व रिकॉर्ड धारक और राष्ट्रीय भाला फेंक खिलाड़ी रह चुके हैं। उन्होने साल 1984 में, 104.80 मीटर भाला फेंककर विश्व रिकार्ड बनाया था। यही नही उन्होने खुद 1986 में अलग तरीके से भाले के डिजाइन किया।

यह भी पढ़ें- KSRTC ने नीरज चोपड़ा को दिया फ्री पास‚ सोशल मीडिया यूजर्स ने कहा जरूरतमंद खिलाड़ियों की करों मदद