तालिबान में महिलाओं पर लागू किए 10 सरिया कानून‚ खिड़की से झांकने पर सिर कलम‚ नेल पॉलिश लगाने पर कटेंगी उंगलियां

 | 
तालिबान में महिलाओं पर लागू किए 10 सरिया कानून‚ खिड़की से झांकने पर सिर कलम‚ नेल पॉलिश लगाने पर कटेंगी उंगलियां
तालिबान में महिलाओं पर लागू किए 10 सरिया कानून‚ खिड़की से झांकने पर सिर कलम‚ नेल पॉलिश लगाने पर कटेंगी उंगलियां

Taliban News: अफगानिस्तान पर अवैध रूप से हथियारों के दम पर कब्जा करने वाले तालिबान ने अपना असली रंग दिखाना शुरू कर दिया है। मंगलवार को जहां उसने हजारों खूंखार कैदियों को रिहा किया वहीं बुधवार को महिलाओं पर कड़ी पाबंदी लगाते हुए उनका जीवन नर्क बना दिया है। तालिबान में महिलाओं पर 10 सरिया कानून लागू करते हुए फरमान जारी कर दिया है।

विश्व समुदाय की चिंताओं को दरकिनार करते हुए तालिबान ने 2001 के बाद दूसरी बार अफगानिस्तान में महिलाओं पर शरिया कानून लागू कर दिए हैं। रोजमर्रा की जिंदगी में महिलाओं और लड़कियों को अब इन्हीं नियमों के मुताबिक रहना होगा। अगर कोई महिला इन नियमों का उल्लंघन करती पाई गई तो उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

महिलाओं की जिंदगी नर्क बनाने के लिए लागू किए गए ये दस सरिया कानून

1- महिलाएं घर के किसी पुरुष सदस्य या रिश्तेदार के बिना बाहर नहीं निकल पाएंगी।

2- घर से बाहर निकलने से पहले महिलाओं को बुर्का पहनना होगा।

3- महिलाओं के हिल्स पहनने पर भी रोक लगा दी है ताकि महिलाओं के आने की आहट पुरुषों को ना सुनाई दे।

4- ग्राउंड फ्लोर के घरों में रहने वाली महिलाओं को बाहर का कोई व्यक्ति ना देख ले इसलिए खिड़कियों पर पेंट करने का आदेश दे दिया गया है।

5- महिलाओं के फोटो खिंचवाने पर भी पूरी तरीके से रोक लगा दी गई है साथ ही अखबारों‚ किताब और घरों में भी महिलाओं की तस्वीरों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

6- पब्लिक प्लेस या किसी संस्था में महिला शब्द को भी हटाने का फरमान सुनाया है।

7- कोई भी महिला घर की खिड़की या बालकनी पर नहीं दिखाई देगी।

8- महिलाओं के किसी भी सार्वजनिक जगह पर इकट्ठा होने पर भी रोक लगादी गई है।

9- महिलाओं के नेल पॉलिश लगाने पर भी रोक लगा दी गई है।

10- अपनी मर्जी से शादी तो क्या शादी के बारे में सोचने का ख्याल पर भी रोक लगा दी गई है।

आदेश नही मानने पर मिलगी ये सजा

जो महिला तालिबान के ही तुगलकी फरमान को नहीं मानेगी उस को कड़ी सजा दी जाएगी। तालिबान अपनी खौफनाक सजा के लिए पहले ही कुख्यात है। अगर कोई महिला उसके बनाए गए नियम तोड़ती है तो उसे कठोर सजा का सामना करना पड़ता है। 2001 से पहले तालिबान राज में अगर कोई महिला उसके नियमों का उल्लंघन करती तो उसे सार्वजनिक तौर पर बेइज्जत किया जाता था।

साथ पीट-पीटकर मार दिया जाता था। मीडिया रिपोटर्स के मुताबिक अवैध संबंधों में लिप्त पाए जाने वाली महिलाओं को सार्वजनिक तौर पर पत्थरों से मारकर हत्या कर दी जाती थी। वही टाइट कपड़े पहनने या खिड़की से बाहर झांकने पर सिर कलम कर दिया जाता था। जो लड़की अरेंज मैरिज करने का विरोध करती थी उसके नाक-कान काट कर मरने के लिए छोड़ दिया जाता था। नेल पेंट लगाने पर भी महिलाओं की उंगलियां काट दी जाती थी। माना जा रहा है कि कानून तोड़ने वाली महिलाओं को यही सजा तालिबान फिर से देना शुरू कर देगा।